महादशा शुभ है या अशुभ कैसे देखे और इसके नियम।
मंगल1 2 राहु3 4 चन्द्र5 6 7 बृहस्पति8 शनि केतु9 शुक्र10 लग्न बुध11 सूर्य12

महादशा कैसे देखे

१. ग्रह शुभ है या अशुभ

२. निर्बल है या बली

३. जिसकी महादशा चल रही है उसका नक्षत्र स्वामी और किन - किन ग्रहों का नक्षत्र स्वामी एक ही हैं


उदहारण

महादशा गोचर विवरण के अनुसार 2019-03-19 05:54:56 की है।

इस कुंडली के अनुसार केतु की महादशा चल रही हैं।

  • शुभ और अशुभ
  • केतु आय स्थान ग्‍यारहवां भाव का स्वामी हैं। केतु लग्न ( शनि ) का मित्र हैं। अतः यह शुभ है।
  • बली या निर्बली
  • केतु की शनि के साथ, जो की उसका मित्र है उसके साथ युति हैं। वक्री राहु ग्रह की सातवीं मित्र दृष्टि । केतु, बृहस्पति की सम राशि में है।
  • अतः यह बली है।
  • नक्षत्र स्वामी कौन हैं ?
  • सूर्य
  • किन किन ग्रहों का नक्षत्र स्वामी सूर्य हैं।
  • मंगल, केतु


केतु की महादशा में आपको इनके भावों ( मंगल के भाव पराक्रम, कर्म, केतु के भाव , सूर्य के भाव पत्नी, ) के ज़्यादा शुभ फल भी मिलेंगे।

* यह कंप्यूटर जनित पूर्वानुमान है।