कुंडली देखने के नियम
Birth Chart
राहु12 बृहस्पति1 2 3 4 चन्द्र5 केतु6 7 8 9 शुक्र मंगल10 सूर्य बुध शनि11
Transit Chart
राहु12 बृहस्पति1 2 3 4 चन्द्र5 केतु6 7 8 9 शुक्र मंगल10 सूर्य बुध शनि11

नियम

  1. कुंडली में त्रिकोण के (5-9) के स्वामी सदा शुभ फल देते हैं
  2. केंद्र के स्वामी (1-4-7-10) यदि शुभ ग्रह हों तो शुभ फल नहीं देते, अशुभ ग्रह शुभ हो जाते हैं
    • पहले घर का स्वामी बृहस्पति है जो शुभ है, पर यह शुभ फल नहीं करेगा।
    • चौथे घर का स्वामी बुध है जो शुभ है, पर यह शुभ फल नहीं करेगा।
    • सातवे घर का स्वामी बुध है जो शुभ है, पर यह शुभ फल नहीं करेगा।
    • दसवें घर का स्वामी बृहस्पति है जो शुभ है, पर यह शुभ फल नहीं करेगा।
  3. 3-6-11 भावों के स्वामी पाप ग्रह हों तो वृद्धि करेगा, शुभ ग्रह हो तो नुकसान करेगा
    • तीसरे घर का स्वामी शुक्र शुभ ग्रह है , तो यह नुकसान करेगा
    • छटे घर का स्वामी सूर्य पापी है,तो यह वृद्धि करेगा।
    • गहरवें घर का स्वामी शनि पापी है,तो यह वृद्धि करेगा।
  4. 6-8-12 भावों के स्वामी जहां भी होंगे, उन स्थानों की हानि करेंगे
    • छटे घर का स्वामी सूर्य जो की वाहरहवें घर में है तो इस घर की हानि करेगा।
    • आठवें घर का स्वामी शुक्र जो की ग्यारहवें घर में है तो इस घर की हानि करेगा।
    • वाहरहवें घर का स्वामी शनि जो की वाहरहवें घर में है तो इस घर की हानि करेगा।
  5. छठे स्थान का गुरु, आठवां शनि व दसवां मंगल बहुत शुभ होता है
    • छटे स्थान में गुरु नहीं हैं।
    • आठवें स्थान में शनि नहीं हैं।
    • दसवें स्थान में मंगल नहीं हैं।
  6. शनि सप्तम में अशुभ होता है
    • सातवे स्थान में शनि नहीं हैं।
  7. दूसरे, पांचवें व सातवें स्थान में अकेला गुरु हानि करता है
    • दूसरे भाव में बृहस्पति हैं , अकेला हैं
  8. ग्यारहवें स्थान में सभी ग्रह शुभ होते हैं
    • शुक्र, मंगल
  9. जिस ग्रह पर शुभ ग्रहों की दृष्टि होती है, वह शुभ फल देने लगता है
Birth Info Edit
DoB2024-02-24
ToB08:34:18
PoBDelhi, IN
Lat|Lon28.36, 77.12
Transit Info Edit
Date2024-02-24
Time08:34:18
PlaceDelhi, IN
Lat|Lon28.36, 77.12
::